औषधि नियंतत्रण निदेशालय में भारी भ्रष्‍टाचार : जाप (लो)

पटना। बिहार सरकार के स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के औषधि नियंत्रण निदेशालय में भयंकर भ्रष्‍टाचार एवं वित्तीय अनियमितता को देखते हुए जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्‍ट्रीय प्रधान महासचिव व प्रवक्‍ता श्री राघवेंद्र कुशवाहा ने बिहार सरकार के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री मंगल पांडेय, विभाग के प्रधान सचिव रहे आर के महाजन, निगरानी विभाग के आयुक्‍त रहे शिशिर सिन्‍हा, राज्‍य औषधि नियंत्रक रविंद्र कुमार सिन्‍हा से इस्‍तीफे की मांग की है। इस पूरे मामले की गंभीरता को देखते हुए इसकी जांच सीबीआई से कराने की मांग करते हुए न्‍यायालय में लंबित इन लोगों पर मुकदमा चलाने के लिए राज्‍य सरकार से अविलंब स्‍वीकृति आदेश देने की भी मांग की है। उन्‍होंने कहा कि औषधि नियंत्रण निदेशालय में जारी अनियमितता में इनके अतिरिक्‍त दर्जन भर से उपर अधिकारी काली करतूत कर रहे हैं, जिनपर पहले से ही कई गंभीर आरोप लगे हुए हैं।

pappu yadav jan adhikar party

श्री कुशवाहा ने कहा कि इन सबों पर निगरानी विभाग के विशेष न्‍यायाधीश, 01, पटना के अंतर्गत परिवाद संख्‍या -3-c-2017 से केस चल रहा है। शिशिर सिन्‍हा ने बड़ी चालाकी से निगरानी विभाग से स्‍वेच्‍छा से सेवानिवृत्ति लेकर सरकार को गुमराह कर के बिहार लोक सेवा आयोग के अध्‍यक्ष बन गए हैं।

उन्‍होंने कहा कि औषधि नियंत्रक निदेशालय के संरक्षण में भारत सरकार द्वारा प्रतिबंधित दवाओं का व्‍यापार फल फूल रहा है। सी बी आई से मोस्‍ट वांटेड तारकेश्‍वर प्रसाद विभाग में सहायक नियंत्रक पद पर कार्यरत है। अनुभवहीन एवं कम योग्‍यता वाले योगेंद्र प्रसाद को प्रयोगशाला विशेषज्ञ बनाया गया है।